Masumiyat Shayari in Hindi – मासूम पर शायरी

तेरा मासूम चेहरा देख कर
तुम पर गुस्सा नहीं आता,
अगर आ भी जाये तो वो भी
तुम्हारे लिए प्यार बन जाता |
tera maasoom chehara dekh kar
tum par gussa nahin aata ,
agar aa bhee jaaye to vo bhee
tumhaare lie pyaar ban jaata…

 

सबसे कीमती चीज होती है
मासूमियत जो हर किसी में नहीं होती |
sabase keematee cheej hotee hai
maasoomiyat jo har kisee mein nahin hotee…

 

तेरे सामने आने से ये दिल है बहुत घबराता ,
पर तुझे छुपकर देखने में सकून है बहुत आता |
tere saamane aane se ye dil hai bahut ghabaraata ,
par tujhe chhupakar dekhane mein sakoon hai bahut aata…

Masumiyat Shayari

कुछ बयान नहीं कर सकते
तेरी मासूमियत को हम,
तुम जितने भी गुना क्यों न कर लो
लेकिन सजा के हक़दार होंगे हम |
kuchh bayaan nahin kar sakate
teree maasoomiyat ko ham,
tum jitane bhee guna kyon na kar lo
lekin saja ke haqadaar honge ham |

 

खुदा ने तुझे इतना मासूम क्यों है बनाया
गलती करने पर भी सजा अपने को देने को करता है |
khuda ne tujhe itana maasoom kyon hai banaaya galatee karane par bhee saja apane ko dene ko karata hai…

 

मासूमियत की कोई उम्र नहीं होती ,
वो हर वक़्त आपके साथ है होती,
जनम से हर कोई नरम है होता, बस
लोगो की वजह से ही दिल सख्त है होता |
maasoomiyat kee koee umr nahin hotee ,
vo har vaqt aapake saath hai hotee ,
janam se har koee naram hai hota,
bs logo kee vajah se hee dil sakht hai hota…

 

शरीफ सा लड़का था में तुमने आपने जाल में फसा लिया,
कभी कलम नहीं उठायी थी मेने तुमने लिखने ला दिया ,
कभी नहीं पड़ा था लड़कियो के चक्रो में तुमने अपने पीछे मुझे ला लिया ,
तेरे इस मासूम से चेहरे ने मुझे तो मरवा दिया |
sharif sa ladaka tha ma tumne apne jaal mein phasa liya, kabhi kalam nahi uthaayee thee mene tumne likhne la diya, kabhi nahi pada tha ladakiyo ke chakro ma tumne apane pichee mujhe la liya, tere is maasoom se chehare ne mujhe to marava diya…