Jhuki Nazar Shayari

जब झुकती है नजर तेरी
तेरी तारीफ करने को मन करता है ,
ये दिल तुझको अपने जान से
भी जय्दा प्यार करता है |
jab jhukatee hai najar teree
teree taareeph karane ko man karata hai ,
ye dil tujhako apane jaan se
bhee jayda pyaar karata hai…

 

बचते रहे हम अपनी नजर को
की उसकी तरफ न जाए,
झुक न सके ये नज़र जब भी वो सामने आये|
bachate rahe ham apanee najar ko
kee usakee taraph na jaye,
jhuk na sake ye nazar jab bhee vo saamane aaye…

 

सुनो झुकी झुकी नज़रों से आपका दीदार किया हैं,
हाँ हमने आपसे सच्चा प्यार किया हैं|
suno jhukee jhukee nazaron se aapaka deedaar kiya hain,
haan hamane aapase sachcha pyaar kiya hain…

 

अल्फाज़ ही थम गए उनकी झुकी नज़रे देखकर,
क्या लिखू हो अब उसके मासूम चेहरे को देखकर|
alphaaz hee tham gae unkee jhukee nazare dekhakar,
kya likhoo ab uske maasum chehre ko dekhakar…

 

ये जो झुकी नज़रों से इज़हार होता है,
तुजे जितनी बार देखु उतनी बार प्यार होता है |
ye jo jhukee nazaron se izahaar hota hai,
tuje jitanee baar dekhu utanee baar pyaar hota hai…

 

मस्ती भरी नज़र का नशा है मुझे अभी ,
ये जाम दूर रख दो पीलोंगा फिर कभी |
Masti bhari nazar ka nsha hai muje abhi,
Ye jaam door rakh doo pilonga phir kabhi…

 

 

नज़रें मिलाके आप झुकाया ना कीजिये ,
अपनी जुल्फों में हमें फसाया ना कीजिये,
खुद की ही लग ना जाए कही आप आप को नज़र,
आईना -आईने को दिखाया ना कीजिये!|
Nazren milake aap jhukaya na kijiye,
apni julfo me hame fasaya na kijiye,
khud ki hi lag na jaye khen aapko nazar,
Aina-Ainne ko dikhaya na kijiye…

 

Jhuki Nazar Shayari

उनकी निगाह में कोई तो जादू ज़रूर था ,
तभी उनमे इतना गरूर था|
unakee nigaah mein koee to jaadoo zaroor tha ,
tabhee uname itana garoor tha…

 

अजीब है ये मोहब्बत भी जनाब,
जिसे देखने को ये आँखे तरसती है,
फिर उसे ही देख ये आँखें क्यों झुकती है|
ajeeb hai ye mohabbat bhee janaab,
jise dekhane ko ye aankhe tarasatee hai,
phir use hee dekh ye aankhen kyon jhukatee hai…

 

इन झुकी हुयी पलको मे बसेरा है तेरा,
काश जब भी ये पलके उठें तो बस सामने हो चेहरा तेरा|
in jhukee huyee palako me basera hai tera, kaash jab bhee ye palake uthen to bas saamane ho chehara tera…

 

जवाब भी बड़ा करारा सा दिया था उसने,
नज़ारे उठाकर जब देखा मैंने,
पलकें झुकाकर सब कह दिया था उसने |
javaab bhee bada karaara sa diya tha usane,
nazaare uthaakar jab dekha mainne,
palaken jhukaakar sab kah diya tha usane…

 

जितनी दफा इन झुकी हुई
नजरों को आपका दीदार होता है,
खुदा कसम उतनी ही दफा
इस दिल को आपसे फिर से प्यार होता है|
jitanee dapha in jhukee huee
najaron ko aapaka deedaar hota hai,
khuda kasam utanee hee dapha
is dil ko aapase phir se pyaar hota hai…

Nazar Shayari

झुकी नज़रों से वो भी क्या कमाल करते थे,
इशारों में वो हम्हे चूमने की बात करते थे,
लगाने को गले हमें वो पास आ जाते थे,
मुस्कुराते हुए अपनी इच्छा बताते थे|
jhukee nazaron se vo bhee kya kamaal karate the,
ishaaron mein vo hamhe choomane kee baat karate the, lagaane ko gale hamen vo paas aa jaate the,
muskuraate hue apanee ichchha bataate the…

 

झुकी नज़रो से गुज़ार लेते है ये ही सोचकर,
कही ये आंखे ना भर आये मेरी उसे देखकर|
jhukee nazaro se guzaar lete hai ye hee sochakar,
kahee ye aankhe na bhar aaye meree use dekhakar…

 

उनकी आंखो से इस दिल पर वार हो गया है,
हमे तो उनकी झुकी नजरों से ही प्यार हो गया है |
unakee aankho se is dil par vaar ho gaya hai,
hame to unakee jhukee najaron se hee pyaar ho gaya hai…