Dhakad Shayari – Damdaar Shayari

Hospital से नाता हम दुश्मनों का जोड़ देते है,
तभी तो सभी दुश्मन हमारे सामने हाथ जोड़ देते है |
hospital se naata ham dushmanon ka jod dete hai ,
tabhee to sabhee dushman hamaare saamane haath jod dete hai…

 

माना की तू किसी रानी से कम नही,
लेकिन वो रानी ही क्या जिसके राजा हम नही।
maana kee too kisee raanee se kam nahee,
lekin vo raanee hee kya jisake raaja ham nahee….

 

जो गुरुर और #रुतबा कल था,
वो आज भी हे और आगे भी रहेगा,
मेरा Attitude कोई Calendar🔖 नही
जो हर साल बदल_जायेगा..!
jo gurur aur rutaba kal tha,
vo aaj bhee he aur aage bhee rahega,
mera attitudai koee calender nahee
jo har saal badal_jaayega..!

 

मुझे पागलो से दोस्ती करना पसंद है साहब,
क्युकी मुश्किल वक़्त में कोई समझदार काम नहीं आता |
mujhe paagalo se dostee karana pasand hai saahab,
kyukee mushkil vaqt mein koee samajhadaar kaam nahin aata…

 

रहते आस पास ही हैं पर पास नही होते,
कुछ लोग मुझसे जलते हैं,
बस वो खास नही होते।
rahate aas paas hee hain par paas nahee hote,
kuchh log mujhase jalate hain,
bs vo khaas nahee hote…

 

बेबक्त, वेबजह, वेहिसाब मुस्कुरा देते हैं,
हम अपने आधे दुश्मनों को तो बस यूँ जी जला देते हैं।
bebakt, vebajah, vehisaab muskura dete hain,
ham apane aadhe dushmanon ko to bas yoon jee jala dete hain…

Damdaar Shayari

चंद्रमा की तरह चमकते है हम रात के समय,
सूरज की रोशनी भी कम लगती है हमारी
चमक के आगे प्रभात के समय |
chandrama kee tarah chamakate hai
ham raat ke samay, sooraj kee roshanee
bhee kam lagatee hai hamaaree chamak
ke aage prabhaat ke samay…

 

असंभव को संभव करने में काम हमारा लिया जाता है,
दुश्मनों की महफिलों में नाम हमारा लिया जाता है |
asambhav ko sambhav karane mein kaam hamaara liya jaata hai, dushmanon kee mahaphilon mein naam hamaara liya jaata hai…

DHAKAD SHAYARI