जब से उसने भरोसा तोडा है,
उस दिन से भरोसे से विश्वास ही उठ गया,
प्यार तो उस पर आ रहा है, लेकिन अब तो शर्म से
मेरा सर ही झुक गया |
jab se usane bharosa toda hai,
us din se bharose se vishvaas hee uth gaya.
Pyar to us par aa raha ha, lekin ab to sharm se.
Mera sir hi juk gaya.

Agar kisi kareebi par se bharosa uth jaye
To Fir se bharosa karne ki himaat nahi padti.
अगर किसी करीबी पर से भरोसा उठ जाए
तो फिर से भरोसा करने की हिमत नहीं पड़ती.

Tuj par bharosa kiya tha,
Tumne to bharose kaa mzaak hi bana diya.
तुझ पर भरोसा किया था,
तुमने तो भरोसे का मजाक ही बना दिया |

Pta nhi log bharosa todte hi kyu ha
Agar baar-baar safaee hi deni pade.
पता नही लोग भरोसा तोड़ते ही क्यों है
अगर बार-बार सफाई ही देनी पड़े | bharosa toda shayari in hindi

Maine us raat ko bharsoa kar ke
offline ho gya tha,
baad mein pta chala,
wo to kisi aur ke saath busy thi.
मैंने उस रात को भरसो कर के
offline हो गया था,
बाद में पता चला,
वो तो किसी और के साथ बिजी थी.

Bharosa Toda Shayari in Hindi

Ishq tha tumse koi time pass nahi,
Tod diya tune aaj bharosa,
Tujko dekege aab nahi.
इश्क़ था तुमसे कोई टाइम पास नहीं,
तोड़ दिया तूने आज भरोसा,
तुजको देखेगे अब नहीं |

Jab se toot gaya ha bharosa,
Tab se sambal gaya hu mein,
Ab har kisi ki mithi baato se,
Pehchaan leta hu ma
जब से टूट गया है भरोसा,
तब से सम्बल गया हु में,
अब हर किसी की मीठी बातों से,
पहचान लेता हूँ में |

Aap par bharosa karte haaur kate rahenge
Bs kabhi bharosa mat todna
Nahi to jeete ji mar hm jayenge.
आप पर भरोसा करते हैऔर कते रहेंगे
बीएस कभी भरोसा मत तोडना
नहीं तो जीते जी मर हम जायेंगे |

आजकल न जाने कब बदल जाए इंसान भरोसा नहीं,
कहते हैं जो भरोसा करो हम पर,
अक्सर भरोसा तोड़ते हैं वहीं।
aajakal na jaane kab badal jae insaan bharosa nahin,
kahate hain jo bharosa karo ham par,
aksar bharosa todate hain vaheen.

अब ज़रा सा भी किसी पर भरोसा नही होता हैं,
और जब भी होता हैं दर्द बड़ा ही बेहद होता हैं।
ab zara sa bhee kisee par bharosa nahee hota hain,
aur jab bhee hota hain dard bada hee behad hota hain.